इनकम टैक्स नोटिसेस क्यों आते है ? – income tax notices in hindi

इनकम टैक्स नोटिसेस क्यों आते है ? – income tax notices in hindi

income tax notices in hindi – आयकर विभाग द्वारा करदाता को कई प्रकार के नोटिस जारी किये जाते है जिसमे करदाता से कुछ सूचनाये मांगी जाती है या इनकम टैक्स रिटर्न को भरने के लिए कहा जाता है। आयकर विभाग द्वारा किसी न किसी कारण से करदाता को नोटिस जारी किया जाता है जिसका जवाब करदाता द्वारा नोटिस में निर्दिष्ट Time limit में दिया जाता है अन्यथा करदाता को इंटरेस्ट और पेनल्टी भुगतनी पड़ सकती है। (more…)

पैन कार्ड की जानकारी – पैन कार्ड क्यों जरुरी है और क्या पैन कार्ड के नहीं होने पर आप पर पेनल्टी भी लगायी जा सकती है ?- what is pan card in hindi

पैन कार्ड की जानकारी – पैन कार्ड क्यों जरुरी है और क्या पैन कार्ड के नहीं होने पर आप पर पेनल्टी भी लगायी जा सकती है ?- what is pan card in hindi

पैन कार्ड की जानकारी

what is pan card in hindi – पैन कार्ड के बारे में आपने कई बार सुना होगा और आपमें से कई लोग इसे पहचान पत्र के रूप में भी काम में ले रहे होंगे, लेकिन फिर भी कई लोगो को पैन कार्ड की जानकारी नहीं है जैसे कि पैन कार्ड क्या है, Pan Card Full Form, पैन कार्ड क्यों जरुरी है, पैन कार्ड नंबर क्या है ,और पैन कार्ड बनवाने के फायदे क्या है। (more…)

जीएसटी सिस्टम में रिवर्स चार्ज मैकेनिज्म क्या है और यह कैसे काम करता है – reverse charge gst meaning in hindi

जीएसटी सिस्टम में रिवर्स चार्ज मैकेनिज्म क्या है और यह कैसे काम करता है – reverse charge gst meaning in hindi

reverse charge gst meaning in hindi – सामान्य तौर पर जीएसटी सिस्टम में गुड्स एंड सर्विसेज के सप्लायर द्वारा गवर्नमेंट को जीएसटी का भुगतान किया जाता है। एक टैक्सेबल पर्सन गुड्स एंड सर्विसेज के Purchaser से जीएसटी कलेक्ट करता है और उसका गवर्नमेंट को भुगतान करता है।

लेकिन जीएसटी सिस्टम में कुछ केसेस ऐसे भी जहाँ गुड्स एंड सर्विसेज के सप्लायर द्वारा गवर्नमेंट को जीएसटी का भुगतान न किया जाकर गुड्स एंड सर्विसेज के प्राप्तकर्ता द्वारा किया जाता है। इसी प्रोसेस को रिवर्स चार्ज मैकेनिज्म के तौर पर जाना जाता है। (more…)

फिक्स्ड डिपॉजिट्स पर टीडीएस के बारे में जानकारी  – Tds on Interest in hindi  सेक्शन 194 A

फिक्स्ड डिपॉजिट्स पर टीडीएस के बारे में जानकारी – Tds on Interest in hindi सेक्शन 194 A

Tds on Interest in hindi – भारत में अघिकतर लोग म्यूच्यूअल फण्ड में इन्वेस्ट करने के बजाय बैंको में फिक्स्ड डिपॉजिट ( F.D ) करवाना अधिक पसंद करते है, क्योकि बैंको में fd करना इन्वेस्ट करने का एक सिक्योर तरीका माना जाता है, जिस पर इन्वेस्टर एक फिक्स्ड ब्याज की इनकम कमा सकते है। fd से होने वाली ब्याज की इनकम टैक्स फ्री नहीं होती है और इस पर टीडीएस के प्रावधान लागू होते है। (more…)