इनकम टैक्स की लायबिलिटी में टैक्स रिबेट कब दी जाती है -income tax rebate rules under section 87A in hindi

इनकम टैक्स की लायबिलिटी में टैक्स रिबेट कब दी जाती है -income tax rebate rules under section 87A in hindi

income tax rebate rules under section 87A in hindi– छोटे करदाताओं को इनकम टैक्स से राहत प्रदान करने के लिए सेक्शन 87A में इनकम टैक्स की Rebate (छूट ) दी जाती है, ताकि जो भी करदाता जिनकी इनकम एक निर्धारित राशि से कम है, पर इनकम टैक्स का ज्यादा भार न आये ।

आज के आर्टिकल में हम सेक्शन 87A के  अलग – अलग प्रावधानों के बारे में जानेंगे। (more…)

अब नकद  में ट्रांजेक्शन करने वालो पर लगाई जाएगी पेनल्टी ( सेक्शन 269ST) – cash transaction limit in hindi

अब नकद में ट्रांजेक्शन करने वालो पर लगाई जाएगी पेनल्टी ( सेक्शन 269ST) – cash transaction limit in hindi

cash transaction limit in hindi– भारत को Cashless इकोनॉमी बनाने और ब्लैक मनी को कम करने के लिए गवर्नमेंट द्वारा इनकम टैक्स एक्ट में कई तरह के Amendment किये जा रहे है, ताकि Cash में कम से कम ट्रांजैक्शन किये जाये । इसी को ध्यान में रखते हुए हुए 1 अप्रैल 2017 से इनकम टैक्स एक्ट 1961 में सेक्शन 269ST लाया गया, जिसके अनुसार यदि आप 2 लाख या अधिक का Cash (नकद ) में कोई भी ट्रांजैक्शन करते है, तो आप पर पेनल्टी लगाई जायेगी। (more…)

इनकम टैक्स डिडक्शन जो आपका टैक्स बचा सकती है – income tax deduction other than 80 c in hindi

इनकम टैक्स डिडक्शन जो आपका टैक्स बचा सकती है – income tax deduction other than 80 c in hindi

आज के समय में सभी लोग कम से कम टैक्स और अधिक से अधिक इनकम कमाना चाहते है। इसीलिए आज कोई भी पर्सन अपने टैक्स को कम करने का कोई भी मौका छोड़ना नहीं चाहते। आज के इस आर्टिकल में हम भी आपके लिए कुछ ऐसे इनकम टैक्स टैक्स डिडक्शन लेकर आये है जिनके बारे में जानकर आप निश्चित ही अपना टैक्स बचा सकते है। (more…)

टैक्स ऑडिट करवाना कब जरुरी है और लगने वाली पेनल्टी – what is tax audit u/s 44 AB in hindi

टैक्स ऑडिट करवाना कब जरुरी है और लगने वाली पेनल्टी – what is tax audit u/s 44 AB in hindi

what is tax audit u/s 44 AB in hindi- एक करदाता को अलग -अलग law के हिसाब से अपने खातों की ऑडिट करवानी पड़ती है जैसे – Cost ऑडिट, Stock ऑडिट, Statutory ऑडिट आदि।  इसी प्रकार इनकम टैक्स एक्ट 1961 के अनुसार भी करदाता को अपने खातों की ऑडिट करवानी पड़ती है जिसे टैक्स ऑडिट कहा जाता है।  (more…)

जीवन बीमा पॉलिसीज पर प्राप्त छूट और टैक्स ट्रीटमेंट – Life insurance policy maturity tax in hindi

जीवन बीमा पॉलिसीज पर प्राप्त छूट और टैक्स ट्रीटमेंट – Life insurance policy maturity tax in hindi

Life insurance policy maturity tax in hindi– वर्तमान में लोग अपने भविष्य को सुरक्षित करने के लिए अपने जीवन पर Life Insurance Policies (LIP) करवाते है, ताकि भविष्य में उन्हें किसी तरह की परेशानी का सामना नहीं करना पड़े। Life Insurance Policies के कई फायदों के साथ हमें इन पॉलिसीज के प्रीमियम के भुगतान पर टैक्स बेनिफिट भी प्राप्त होते है, (more…)

Footer Codes in Head and Footer Code