cash transaction limit in hindi– भारत को Cashless इकोनॉमी बनाने और ब्लैक मनी को कम करने के लिए गवर्नमेंट द्वारा इनकम टैक्स एक्ट में कई तरह के Amendment किये जा रहे है, ताकि Cash में कम से कम ट्रांजैक्शन किये जाये । इसी को ध्यान में रखते हुए हुए 1 अप्रैल 2017 से इनकम टैक्स एक्ट 1961 में सेक्शन 269ST लाया गया, जिसके अनुसार यदि आप कोई भी 2 लाख या अधिक का Cash (नकद ) में ट्रांजैक्शन करते है, तो आप पर पेनल्टी लगाई जायेगी।





आज के आर्टिकल cash transaction limit in hindi में हम Cash ट्रांज़ैक्शन के सम्बन्ध में लाये गए नए नियमो और पेनल्टी के बारे में जानेंगे।

 

यह भी जाने टैक्स ऑडिट करवाना कब जरुरी है और लगने वाली पेनल्टी

सेक्शन 269ST क्या है ?

सेक्शन 269ST के अनुसार यदि कोई पर्सन 2 लाख या अधिक की राशि नकद (Cash ) में प्राप्त करता है, तो उस पर्सन पर पेनल्टी लगाई जाएगी। यानि कि इस सेक्शन में पेनल्टी Cash में राशि प्राप्त करने वाले पर लगाई जाएगी न की राशि का भुगतान करने वाले पर।  Exp :- मान लीजिये आपने कोई गुड्स बेचा और राशि Cash में प्राप्त की, जो कि 2 लाख या अधिक है तो आप पेनल्टी के लिए दायी होंगे।

इसलिए अगर आप 2 लाख या अधिक की राशि प्राप्त कर रहे है, तो इसे सिर्फ बैंकिंग चैनल्स के माध्यम से ही प्राप्त करे, जैसे :- A /C Payee चेक, या A /C Payee बैंक ड्राफ्ट, या इलेक्ट्रॉनिक क्लीयरेंस सिस्टम के माध्यम से बैंक में ट्रांसफर ( क्रेडिट कार्ड, E – वॉलेट etc.) ।

यदि पेमेंट Self Cheque या Bearer Cheque के माध्यम से प्राप्त किया जा रहा है, तो इसे भी Cash में किया गया लेनदेन ही माना जायेगा और पेनल्टी लगायी जाएगी।

यह भी जाने जीवन बीमा पॉलिसीज पर प्राप्त छूट और टैक्स ट्रीटमेंट

Rs 2 लाख की लिमिट किस प्रकार से निकाली जाएगी ? (cash transaction limit in hindi)

  1. Same Payer in A Day – किसी भी एक पर्सन से एक दिन में नकद में (A /C Payee चेक, या A /C Payee बैंक ड्राफ्ट, या इलेक्ट्रॉनिक क्लीयरेंस सिस्टम के माध्यम से बैंक में ट्रांसफर के अलावा ) 2 लाख या अधिक की राशि प्राप्त नहीं होनी चाहिये।
  2. Same Transaction  – किसी एक ट्रांजैक्शन से नकद में (A /C Payee चेक, या A /C Payee बैंक ड्राफ्ट, या इलेक्ट्रॉनिक क्लीयरेंस सिस्टम के माध्यम से बैंक में ट्रांसफर के अलावा ) 2 लाख या अधिक की राशि प्राप्त नहीं होनी चाहिये।
  3. Same Event or Occasion – किसी भी एक ट्रांजैक्शन जो कि किसी एक इवेंट या occasion से सम्बंधित है, में किसी एक पर्सन  से 2 लाख या अधिक नकद (Cash ) में प्राप्त नहीं होने चाहिये।

यह भी जाने मेडिकल insurance प्रीमियम से टैक्स कैसे बचाये – सेक्शन 80 D

कब 2 लाख से अधिक राशि प्राप्त करने पर पेनल्टी नहीं लगायी जायेगी ? ( सेक्शन 269ST एप्लीकेबल नहीं होगा )

CBDT द्वारा उन पर्सन को Notified किया गया है जिनके ऊपर 2 लाख से अधिक राशि प्राप्त करने पर कोई रोक नहीं है।

CBDT के अनुसार निम्न पर्सन को 2 लाख से अधिक राशि नकद में प्राप्त करने से छूट दी गयी है –

सरकार या

बैंकिंग कंपनी या

पोस्ट ऑफिस या

को- ऑपरेटिव बैंक या

कोई ऐसा पर्सन जिसे सेन्ट्रल गवर्नमेंट द्वारा Notified किया गया है।



यह भी जाने इनकम टैक्स डिडक्शन जो आपका टैक्स बचा सकती है – income tax deduction other than 80 c in hindi

पेनल्टी की राशि (सेक्शन 271DA)

सेक्शन 271DA कैश ट्रांजैक्शन के सम्बन्ध में पेनल्टी के बारे में बताता है। इस सेक्शन के अनुसार यदि कोई भी पर्सन 2 लाख या अधिक की राशि नकद में प्राप्त करता है, तो उस पर प्राप्त राशि के बराबर पेनल्टी लगाई जायेगी। यानि कि 100 % पेनल्टी। जैसे :- मान लीजिये अाप कोई कंसलटेंट है और आपने अपने किसी क्लाइंट को 4 लाख की सर्विस प्रदान की और ये 4 लाख की राशि आपने क्लाइंट से नकद में प्राप्त की। इस केस में सेक्शन 269ST लागू होगा और आप पर 4 लाख की पेनल्टी लगाई जायेगी।

लेकिन इस पेनल्टी से बचा जा सकता है यदि आपके द्वारा यह prove कर दिया जाये कि Cash में राशि प्राप्त करने का कोई Good and Sufficient कारण था।

यह भी पढ़े Clubbing of Income के इन प्रावधानों के बारे में नहीं पता तो हो सकती आपकी इनकम के कैलकुलेशन में गलती।

नकद में राशि का भुगतान करने वाले पर क्या प्रभाव पड़ेगा ?

सेक्शन 269ST सिर्फ नकद में राशि प्राप्त करने वाले को तो पेनल्टी के लिए दायी बताता है, लेकिन उस पर्सन के बारे में कुछ नहीं बताता है जो कि नकद में राशि का भुगतान कर रहा है।

इसलिए नकद में राशि भुगतान करने वाले के लिए इनकम टैक्स एक्ट 1961 में एक अलग से सेक्शन 40A(3) बताया गया है जिसके अनुसार यदि कोई पर्सन Rs. 10,000 से अधिक का नकद में किसी एक पर्सन को एक दिन में भुगतान करता है, तो उस पर्सन को नकद में भुगतान की गयी राशि की टैक्स में छूट नहीं मिलेगी।

इसलिये अगर आप 2 लाख या अधिक की राशि का किसी को  नकद में भुगतान करते है, तो आप उस खर्चे को अपनी बिज़नेस इनकम से सेट ऑफ नहीं कर पायेगा और उस पर आपको टैक्स देना पड़ेगा।

यह भी जाने क्या एग्रीकल्चरल इनकम पूरी तरह टैक्स फ्री होती है – Taxation of Agricultural income

Example of सेक्शन 269ST

आपने  20 जून को 10 लाख के गुड्स उधार में बेचे, जिसके सम्बन्ध में अापने राशि निम्न प्रकार से प्राप्त की-

24 जून को 1 लाख Cash में

28 जून को 50000 Self चेक से

3 जुलाई को 1.5 लाख Cask  में और

बाकी  की राशि अपने A/C Payee चेक से प्राप्त की।

इस केस में आपने किसी भी दिन 2 लाख या अधिक की राशि नकद में प्राप्त नहीं की लेकिन फिर भी आप पर पेनल्टी लगायी जयेगी, क्योकि किसी भी एक ट्रांजैक्शन  में 2 लाख या अधिक की राशि Cash में प्राप्त करने पर सेक्शन 269DA में पेनल्टी के लिए दायी होते है ।

इस केस में आप पर लगाने वाली पेनल्टी –    3 लाख  ( 1 लाख Cash में  प्राप्त राशि + 50000 Self चेक + 1.5 लाख Cash में प्राप्त राशि)।

अगर आपको आर्टिकल cash transaction limit in hindi अच्छा लगा हो तो इसे आगे शेयर जरूर करे।

यह भी जाने what is e way bill under gst

 

 

Shares
Footer Codes in Head and Footer Code