Property tax in hindi – भारत में इनकम टैक्स डिपार्टमेंट से सबसे अधिक नोटिस प्रॉपर्टी में ट्रांजेक्शन करने वाले लोगो को ही जारी किये जाते है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि प्रॉपर्टी में ट्रांजेक्शन करना गलत है। प्रॉपर्टी ट्रांजेक्शन में इनकम टैक्स नोटिस अधिक आने की मुख्य वजह यह है कि जब भी कोई पर्सन किसी प्रॉपर्टी को सेल करता है तो उसे अपनी इनकम टैक्स रिटर्न में नहीं दिखाता है और न ही उस पर कोई टैक्स जमा करवाता है।

लेकिन बाद में जब यह ट्रांजेक्शन इनकम आयकर विभाग के पकड़ में आता है, तो वह उस पर्सन को नोटिस जारी कर देता है और जमा नहीं करवाए गए टैक्स को इंटरेस्ट और पेनल्टी के साथ जमा करवाने की मांग करता है। इन ट्रांजेक्शन पर पेनल्टी की राशि काफी ज्यादा होती है, इसलिए इन ट्रांजेक्शन को समय पर रिपोर्ट करना चाहिए।



अगर आप भी कोई प्रॉपर्टी ( चाहे बिल्डिंग हो या कोई जमीन ) बेचने की सोच रहे है, तो आपको भी कुछ इनकम टैक्स के कुछ नियमो का पता होना चाहिये।  इन नियमो के बारे में हम आज के आर्टिकल Property tax in hindi में चर्चा करेंगे।

यह भी जाने  कैपिटल गेन कब होता है

कैपिटल गेन टैक्स क्या होता है – ( Property tax in hindi )

जब भी कोई प्रॉपर्टी ( चाहे बिल्डिंग हो या कोई जमीन ) बेचीं जाती है, तो उसे बेचने पर जो प्रॉफिट होता है वह कैपिटल गेन कहलाता है और यदि बेचने पर कोई loss होता है तो वह कैपिटल loss होता है।

प्रॉपर्टी को बेचने पर होने वाला कैपिटल गेन टैक्सेबल होता है जिसे हम कैपिटल गेन हेड के अंतर्गत रिपोर्ट करते है। कैपिटल गेन पर टैक्स की गणना करने से पहले हम उसे लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन ( LTCG ) और शार्ट टर्म कैपिटल गेन ( STCG ) में बाँटते है। कैपिटल गेन को लॉन्ग टर्म और शार्ट टर्म में इसलिए अलग किया जाता है क्योकि इन दोनों पर टैक्स की कैलकुलेशन और रेट्स अलग – अलग होती है।

कैपिटल गेन का शार्ट टर्म कैपिटल गेन और लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन में वर्गीकरण प्रॉपर्टी को हमने कितने समय तक अपने पास रखा पर depend करता है।

यह भी जाने फिक्स्ड डिपॉजिट्स पर टीडीएस के बारे में जानकारी

टाइम लिमिट

कोई प्रॉपर्टी  ( चाहे बिल्डिंग हो या कोई जमीन ) यदि 1 अप्रैल 2017 के बाद ट्रांसफर की गयी है तो उसको धारित ( Hold ) करने की अवधि यदि 24 महीनो से अधिक है, तो वह लॉन्ग टर्म कैपिटल एसेटस कहलायेगी और यदि 1 अप्रैल 2017 से पहले ट्रांसफर की गई है तो वह 36 महीनो से अधिक धारित ( Hold ) की जाती है तो लॉन्ग टर्म कैपिटल एसेट्स मानी जायेगी।

शार्ट टर्म कैपिटल एसेटस वह एसेट्स होती है जो कि लॉन्ग टर्म कैपिटल एसेट्स नहीं है। जब भी लॉन्ग टर्म एसेटस को बेचा जाता है तो लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन/ loss और यदि शार्ट टर्म कैपिटल एसेटस को बेचा जाता है तो शार्ट कैपिटल कैपिटल गेन / loss होता है।

यह भी जाने क्या आप भी एडवांस टैक्स के दायरे में आते है ? यदि हाँ तो यह जरूर पढ़े

calculation of capital gain on sell of property

जब भी कोई  पर्सन किसी प्रॉपर्टी को ट्रांसफर करता है तो वह उस ईयर में टैक्सेबल होता है जिस ईयर में वह ट्रांजेक्शन हुआ था। इस ट्रांजेक्शन पर कैपिटल गेन कैलकुलेट करने के लिए आपको निम्न कैलकुलेशन करनी होगी –

Short term capital gain Amount Long term capital gain Amount
Sale Consideration *** Sale Consideration ***
Less : (1) Expenses on transfer *** Less : (1) Expenses on transfer ***
(2) Cost of acquisition *** (2) Indexed Cost of acquisition ***
(3) Cost of improvement *** (3) Indexed Cost of Improvement ***
Net consideration *** Net consideration ***
Less: Exemption ( If any) *** Less: Exemption ( If any) ***
Taxable Capital Gain *** Taxable Capital Gain ***

 

शार्ट टर्म कैपिटल गेन और लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन की कैलकुलेशन में अंतर सिर्फ इतना है कि लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन में हम कॉस्ट ऑफ़ acquisition और कॉस्ट ऑफ Improvement का इंडेक्सेशन करते है।



कैपिटल गेन की कैलकुलेशन को समझने के लिए हम एक उदाहरण देखते है –

मान लीजिये आपने एक साल पहले कोई प्रॉपर्टी 10 लाख में खरीदी थी, जिस पर आगे कुछ सुधार के लिए आपने 2 लाख रुपये और खर्च किये। अब आप इस प्रॉपर्टी को 18 लाख रुपये में बेच रहे है और बेचने पर आपको 1 लाख के खर्चे और हो रहे है, तो इस केस में कैपिटल गेन की कैलकुलेशन होगी –

Particular Amount
Sale consideration 18,00,000
Less : expenses on sale 1,00,000
Cost of acquisition 10,00,000
Cost of improvement 2,00,000
Net consideration 5,00,000
Less : Exemption ( If Any)     –
Taxable capital gain 5,00,000 

 

इस केस में आपका 5 लाख रुपये का शार्ट टर्म कैपिटल गेन आया जिस पर आपको आपके स्टेटस के हिसाब से टैक्स देना होगा यानि यदि आप एक कंपनी या फर्म है तो 30 % और अगर आप एक इंडिविजुअल या HUF है तो यह अमाउंट आपकी स्लैब रेट में जुड़ जायेगा और उसके हिसाब से टैक्स लगेगा।

यदि इस केस में लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन हुआ होता तो टैक्स की राशि 20 % होती।  टैक्सेबल कैपिटल गेन में से आपको 80 सी की कोई भी डिडक्शन नहीं दी जायेगी।

यह भी जाने टीडीएस / टीसीएस रिटर्न को फाइल करने की डेट्स और पेनल्टीज़

Loss होने पर क्या करे ?

यह जरुरी नहीं है की किसी प्रॉपर्टी को बेचने पर हमें प्रॉफिट ही हो, इसमें नुकसान भी हो सकता है। यदि प्रॉपर्टी को बेचने पर हमें नुकसान हो रहा है तो इसको आप इनकम टैक्स रिटर्न में जरूर दिखाए ताकि इस loss को आप किसी अन्य कैपिटल गेन से सेट ऑफ कर सके।

यदि उस ईयर में कोई और टैक्सेबल कैपिटल गेन नहीं है तो आप इसे आगे Carry Forward कर सकते है जिससे भविष्य में होने वाले कैपिटल गेन से सेट ऑफ कर सकते है। कैपिटल loss को आगे Carry Forward करने के लिए आपको समय पर इनकम टैक्स रिटर्न भरना बहुत जरुरी है अन्यथा आप इसे Carry Forward नहीं कर पायेंगे।

 अगर आपको Property tax in hindi आर्टिकल अच्छा लगा हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे।

धन्यवाद।

यह भी जाने पैन कार्ड की जानकारी – पैन कार्ड क्यों जरुरी है और क्या पैन कार्ड के नहीं होने पर आप पर पेनल्टी भी लगायी जा सकती है ?-

Share This