कैपिटल गेन पर टैक्स कैसे बचाये ? – section 54 of income tax act in hindi

कैपिटल गेन पर टैक्स कैसे बचाये ? – section 54 of income tax act in hindi

section 54 of income tax act in hindi – जब भी कोई पर्सन किसी Assets को बेचता है, तो उसके सामने सबसे बड़ी समस्या उस Assets को बेचने पर होने वाली इनकम पर टैक्स चुकाने की होती है, जिसे हम कैपिटल गेन टैक्स भी कहते है।

आज भारत में अधिकतर लोगो ने पैसे प्रॉपर्टी में लगाये हुए है, ताकि इस प्रॉपर्टी को बाद में बेचकर वो एक अच्छी इनकम कर सके। लेकिन जब वो प्रॉपर्टी को sell करते है, तो उन्हें अपनी इनकम पर टैक्स की एक बड़ी राशि का भुगतान करना पड़ता है जिससे उनके हाथ में काफी कम इनकम आती है। (more…)

पेंशन पर टैक्स कैसे कैलकुलेट करते है ? – taxation of pension in hindi

पेंशन पर टैक्स कैसे कैलकुलेट करते है ? – taxation of pension in hindi

taxation of pension in hindi – पेंशन एक रिटायरमेंट बेनिफिट है जो कि एम्प्लोयी को उसके द्वारा दी गयी सेवाओं के रिवॉर्ड के रूप में प्राप्त होती है। एक employee को पेंशन उसके रिटायरमेंट के बाद प्राप्त होती है, जो कि Income From Salary Head में टैक्सेबल होती है। (more…)

home loan पर मिलने वाले टैक्स बेनिफिट्स – home loan tax benefit in hindi

home loan पर मिलने वाले टैक्स बेनिफिट्स – home loan tax benefit in hindi

home loan tax benefit in hindi – गवर्नमेंट द्वारा लोगो को home loan लेने पर tax में बेनिफिट दिया जाता है, ताकि भारत में अधिक से अधिक लोग अपना घर खरीदने के लिए प्रेरित हो सके । Home loan की Installment का भुगतान करना एक आम आदमी के लिए परेशानी का कारण हो सकता है, लेकिन home loan पर टैक्स में बेनिफिट देने से इस परेशानी को काफी हद तक कम किया जा सकता है।  (more…)

जीएसटी में रजिस्ट्रेशन करवाना कब mandatory है – gst registration in hindi

जीएसटी में रजिस्ट्रेशन करवाना कब mandatory है – gst registration in hindi

gst registration in hindi – जीएसटी में रजिस्ट्रेशन करवाना जरुरी है या नहीं, यह कई फैक्टर्स पर डिपेंड करता है। यदि कोई पर्सन जिसे जीएसटी में रजिस्ट्रेशन करवाना जरुरी था और उसने जीएसटी में रजिस्ट्रेशन नहीं करवाया, तो उस पर पेनल्टी लगाई जाएगी। (more…)

इनकम टैक्स की लायबिलिटी में टैक्स रिबेट कब दी जाती है -income tax rebate rules under section 87A in hindi

इनकम टैक्स की लायबिलिटी में टैक्स रिबेट कब दी जाती है -income tax rebate rules under section 87A in hindi

income tax rebate rules under section 87A in hindi– छोटे करदाताओं को इनकम टैक्स से राहत प्रदान करने के लिए सेक्शन 87A में इनकम टैक्स की Rebate (छूट ) दी जाती है, ताकि जो भी करदाता जिनकी इनकम एक निर्धारित राशि से कम है, पर इनकम टैक्स का ज्यादा भार न आये ।

आज के आर्टिकल में हम सेक्शन 87A के  अलग – अलग प्रावधानों के बारे में जानेंगे। (more…)

Footer Codes in Head and Footer Code