What is taxation of gift in India

Gift Tax – भारत में आमतौर पर लोग किसी न किसी को गिफ्ट देते रहते है। गिफ्ट चाहे किसी को शादी में दिया जाये या पिता द्वारा पुत्र को या किन्ही अन्य पर्सन द्वारा किसी भी पर अवसर दिया जाये। गिफ्ट नकद में भी हो सकते है या किसी अन्य तरीके का भी हो सकता है। लेकिन किसी पर्सन को गिफ्ट देना टैक्सेशन को भी attract करता है।

अगर कोई पर्सन किसी को गिफ्ट दे रहा है तो इस गिफ्ट पर इनकम टैक्स एक्ट के provisions लागू होंगे और उसके आधार पर ही गिफ्ट के टैक्सेशन का फैसला किया जायेगा।

गिफ्ट के टैक्सेशन पर चर्चा करने से पहले सबसे महत्वपूर्ण बात आपको यहाँ बता देना चाहता हूँ कि गिफ्ट टैक्सेबल हो या टैक्स फ्री हो, आपको अपनी इनकम टैक्स रिटर्न  में इसे जरूर दिखाना है।

गिफ्ट की Taxability को समझने से पहले हम देखेंगे की ,कि वास्तव में गिफ्ट होता क्या है । किस तरह की गिफ्ट को गिफ्ट की परिभाषा में शामिल किया गया है।

इनकम टैक्स एक्ट के अनुसार गिफ्ट्स को विभिन्न categories में डिफाइन किया गया है , जैसे –

1. Cash Gifts – किसी भी पर्सन से नकद में गिफ्ट लेना ,
2. Immovable Property – इसमें Land या Building या दोनों को शामिल किया गया है,
3. Movable Property – इसमें Shares & Securities, jewellery, Archaeological Collection, Drawings, Paintings, Sculptures, Any Work of Art or Bullion को शामिल किया गया है ।



अगर कोई गिफ्ट्स इन Categories के अलावा होता है , तो ये टैक्सेबल नहीं होगा ।For Examples.

1. लैपटॉप या वॉच को किसी भी Categories में शामिल नहीं किया गया है , तो ये किसी भी तरह के टैक्सेशन को Attract नहीं करते है ।
2. प्रॉपर्टीज की डेफिनेशन में कार को भी शामिल नहीं किया गया है , तो ये भी टैक्सेबल नहीं है। लेकिन कार आपको Employer से मिली हो तो ये Perquisites मानी जाएगी और सैलरी Head में टैक्सेबल होगी ।

Read Article on – Clubbing of Income? 

किस सीमा तक गिफ्ट प्राप्त करना टैक्स से मुक्त होगा ? Exemption Limit From Levy of Income Tax On Gift –

 

1. Cash Gift – एक Financial Year में सभी पर्सन से प्राप्त नकद राशि Rs. 50,000 से अधिक नहीं होती है ,तो ये टैक्स फ्री होगी । और अगर नकद में प्राप्त गिफ्ट की राशि 50,000 से अधिक हो जाती है , तो पूरी गिफ्ट की राशि आपकी इनकम मानी जायेगी और  income From Other Source में टैक्सेबल होगी ।

अगर आप भी किसी से नकद में गिफ्ट प्राप्त कर रहे है तो टैक्सेशन के purpose से बेहतर होगा कि आपके नकद गिफ्ट की कुल राशि 1 साल में 50,000 से अधिक नहीं होनी चाहिये।

2. Immovable Property – अगर कोई पर्सन गिफ्ट में कोई immovable प्रॉपर्टी प्राप्त करता है, तो इसमें भी 2 केस हो सकते है, जैसे :–
A. प्रॉपर्टी बिना किसी प्रतिफल (Consideration )के प्राप्त हो – ऐसी स्थिति में यदि प्रोपर्टी की स्टाम्प ड्यूटी वैल्यू Rs. 50,000 से कम है, तो टैक्सेबल नहीं है और अगर Rs. 50,000 से अधिक है , तो स्टाम्प ड्यूटी वैल्यू पर टैक्स लगेगा ।
B. प्रॉपर्टी कम प्रतिफल पर प्राप्त हो – ऐसी स्थिति में , प्रॉपर्टी पर किया गया भुगतान उसकी स्टाम्प ड्यूटी वैल्यू से Rs.50,000 से कम है तो टैक्स फ्री होगा अन्यथा टैक्सेबल ।

3. Movable Assets – Movable Assets अगर बिना किसी प्रतिफल के प्राप्त हो रही है और उनकी Fair Market Value 50,000 से कम है, तो टैक्स फ्री होगी अन्यथा टैक्सेबल ।
और अगर कम प्रतिफल के प्राप्त हो रही है तो, Fair Market Value – Consideration = Rs. 50,000 से कम है तो टैक्स फ्री अन्यथा टैक्सेबल ।

यह भी जाने आप भी कोई प्रॉपर्टी बेच रहे है तो आपको पता होनी चाहिए कुछ जरुरी चीजे

Gifts Fully Exempt – गिफ्ट जिन्हे प्राप्त करने पर कोई टैक्स नहीं लगता

कुछ परिस्थितियों में प्राप्त गिफ्ट पूरी तरह से टैक्स फ्री होते है । जैसे –

1. किसी Relatives से प्राप्त गिफ्ट – Relatives की डेफिनेशन में,

a. Individual का जीवनसाथी,
b. Individual के भाई अथवा बहिन,
c. Individual के जीवनसाथी के भाई अथवा बहिन,
d. Individual के पेरेंट्स में किसी का भाई अथवा बहिन,
e. Individual का Lineal Ascendant या Lineal Descendant,
f. Individual के जीवनसाथी का Lineal Ascendant या Lineal Descendant,
g. ( b से f ) में वर्णित पर्सन्स के जीवनसाथी ।


यह भी जाने बेनामी प्रॉपर्टी क्या है

For Examples:

A) श्रीमान आकाश ने अपने दादा जी से Rs. 5,00,000 का गिफ्ट प्राप्त किया, चूँकि Relative से प्राप्त गिफ्ट टैक्सेबल नही होता है, अतः श्रीमान आकाश को प्राप्त Rs. 5,00,000 का गिफ्ट टैक्स फ्री होगा ।

B) श्रीमान अशोक ने अपनी वाइफ सीमा को Rs. 4,00,000 का गिफ्ट दिया, तो ऐसी स्थिति में सीमा को प्राप्त गिफ्ट टैक्स फ्री होगा ।

सीमा ने प्राप्त 4 लाख  को आगे इन्वेस्ट कर दिया जिस पर सीमा को Rs. 50,000 की इनकम हुई । इनकम टैक्स एक्ट के Clubbing Provisions की वजह से Rs. 50,000 की इनकम श्रीमान अशोक के हाथों में टैक्सेबल होगी, क्योकि अगर कोई Individual अपने जीवनसाथी को बिना किसी प्रतिफल के कोई गिफ्ट देता है , तो उस पर कमाई गयी इनकम Transferor (जिसने गिफ्ट दिया था ) के हाथो में टैक्सेबल होती है ।

बाद में सीमा ने Rs. 50,000 की इनकम को आगे इन्वेस्ट करके Rs. 5000 की इनकम कमाई ,तो इस पर Clubbing of Income के Provision लागू नहीं होंगे और ये सीमा के हाथों में टैक्सेबल होगी । क्योकि clubbing of income  के provision इनकम से इनकम पर लागू नहीं होते है।

2. HUF को Member से प्राप्त गिफ्ट – एक HUF को अपने किसी भी Member से प्राप्त गिफ्ट टैक्स फ्री होता है ।

3. शादी के अवसर पर – Individual को अपनी शादी के अवसर पर प्राप्त कोई भी गिफ्ट टैक्स फ्री होता है । यह गिफ्ट किसी से भी प्राप्त किया जा सकता है चाहे वह relative हो या अन्य कोई।

4. Individual को वसीयत या उत्तराधिकारी के रूप में प्राप्त कोई धनराशि / सम्पति Individual के हाथों में टैक्स फ्री होती है ।

5. Individual को किसी Local Authority से प्राप्त धनराशि / सम्पति टैक्स फ्री होती है ।

श्रीमान राजेश को Local Authority से आवास योजना में एक फ्री Rs. 5,00,000 का फ्लैट प्राप्त हुआ , Local Authority से प्राप्त कोई भी सम्पति टैक्स फ्री होती है , इसलिये श्रीमान राजेश के हाथों में किसी तरह की कोई टैक्स liability Attract नहीं होगी ।

6. सेक्शन 10 (23C) में बताये गए किसी फण्ड या फाउंडेशन या यूनिवर्सिटी या अन्य शैक्षणिक संस्थान ,अस्पताल या कोई ट्रस्ट से प्राप्त कोई धनराशि /सम्पति ।

7. सेक्शन 12A /12 AA के अंतर्गत रजिस्टर्ड किसी ट्रस्ट या संस्थान से प्राप्त धनराशि /सम्पति ।

8. इंडिविजुअल के रिलेटिव के बेनिफिट के लिये बनाये गए ट्रस्ट से प्राप्त कोई money/property टैक्स से exempt होगी। ( 1 अप्रैल 2017 को या उसके बाद में प्राप्त money/property पर लागू )

अगर आपको आर्टिकल Gift Tax अच्छा लगा हो तो इसे आगे शेयर जरूर करे।

यह भी जाने:

Shares
Footer Codes in Head and Footer Code