जीएसटी compensation सेस क्या है ? (what is gst compensation cess in hindi)

Gst compensation cess एक एडिशनल टैक्स है जो कि notified goods (sin गुड्स & luxury goods ) पर लगाया जाता है। यह notified goods पर sgst, cgst या igst के अलावा लगाया जाता है।

gst compensation cess सप्लाई किये गए गुड्स की वैल्यू पर लगाया जाता है। गुड्स की वैल्यू में जीएसटी के amount को शामिल नहीं किया जाता।

इस cess को जीएसटी के लागू होने की तारीख से 5 वर्ष के पीरियड तक ही लगाया जायेगा।


Gst compensation cess क्यों लगाया जाता है ?

Central sales tax (CST ) जो कि gst के लागू होने से पहले goods पर लगाया जाता था। CST उन राज्यों द्वारा collect किया जाता था जो कि goods को manufacture करते थे।

जीएसटी लागू होने के बाद CST हटा दिया गया और उसका स्थान gst ने ले लिया। लेकिन gst एक consumption based टैक्स है, जो कि उस state द्वारा collect किया जाता है, जहाँ goods उपयोग में लिए जाते है।

इसलिए जो state गुड्स manufacture करते थे उनको नुकसान होने लगा क्योकि जीएसटी की राशि उन राज्यों को मिलने लगी जहाँ गुड्स use में लिए जाते थे।

राज्यों के इसी loss को कम करने के लिए gst compensation cess लाया गया।

कौन Gst compensation cess को collect कर सकता है ?

सभी पर्सन जो कि notified goods की सप्लाई कर रहे है, उन्हें जीएसटी compensation cess को कलेक्ट करना होगा। यह Inter state और intra स्टेट दोनों तरह की सप्लाई पर लगाया जायेगा।

लेकिन ऐसे पर्सन जिन्होंने कम्पोजीशन स्कीम को अपना रखा है, उन्हें gst compensation cess से दूर रखा गया है।

ऐसे goods जिन पर gst compensation cess लगाया जायेगा और उनकी रेट्स – 

GOODS GST RATES CESS RATES MAXIMUM CESS RATES
Coal 5% INR 400 per tonne INR 400 per tonne
Aerated water 28% 12% 15%
Tobacco 28% 61% – 204% INR 4170 per tone
Pan masala 28% 60% 135%
Motor vehicles 28% 1%-15% 15%

 

इनपुट टैक्स क्रेडिट – 

gst compensation cess की इनपुट टैक्स क्रेडिट प्राप्त होगी, लेकिन यह सिर्फ gst compensation cess के भुगतान के लिए ही use में लायी जा सकती है। यानि इसकी इनपुट टैक्स क्रेडिट sgst,cgst और igst की टैक्स लायबिलिटी से सेट ऑफ नहीं की जा सकती।

अगर आपको gst compensation cess के बारे में जानकारी अच्छी लगी हो तो इस आर्टिकल को आगे शेयर जरूर करे।

यह भी जाने :

Shares
Footer Codes in Head and Footer Code